दीपावली पर निबंध-Essay on deepawali.

दीपावली अर्थात दीपों का त्योहार रोशनी का त्योहार ,दीपावली शरद ऋतू में हर वर्ष मनाया जाता है ,दीपावली हिंदुओं का सबसे पवित्र और सबसे बड़ा त्यौहार माना जाता है दीपावली दीवाली या किसी भी नाम से पुकारे ये त्यौहार आनंद और प्रकाश ही फैलता है  .

यह भारतीय संस्कृति का सर्वप्रमुख त्यौहार है यह प्रतिवर्ष कार्तिक अमावस्या को मनाया जाता है ‘तमसो मा ज्योतिर्गमय ‘अंधेरे से ज्योति अर्थात प्रकाश की ओर जाइये यह अपने उपनिषदों की आज्ञा मानी जाती है अर्थात प्रत्येक मनुष्य अपने जीवन के गम के अंधेरों को खत्म करके उजाले की ओर जाए अपने मन के अंधेरों को भी खत्म करे यही दीपावली का त्यौहार है।

दीपावली कब मनाई जाती है: दीपावली त्यौहार कार्तिक अमावस्या के दिन मनाया जाता है लेकिन यह त्यौहार पांच दिनों का होता है जिनमें (धनतेरस ,नरक चतुर्दशी, अमावस्या ,कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा ,भाई दूज ,)होता है इसलिए यह धनतेरस से शुरू होकर भाई दूज पर खत्म होता है .पर इसको मनाने की खुशी इतनी होती है .इसकी तैयारी महीनो पहले से ही होने लगती है .दीपावली त्यौहार की तारीख तो हिंदू कैलेंडर के अनुसार निर्धारित होती है परंतु ये अक्टूबर ,नवंबर ,में मनाया जाता है।

दीपावली क्यों मनाई जाती है: दीपावली मनाने की कई कथाएं प्रचलित हैं पर हम सब जानते हैं कि दीपावली के दिन। भगवान् श्री राम सीता मैया और लक्ष्मण के साथ असुरराज रावण को मार कर अयोध्या नगरी वापस आए थे, तब नगर वासियों ने उनके आने की खुशी में अयोध्या को साफ-सुथरा करके दीपों से और फूलो ,रंगोली ,से पूरीे अयोध्या नगरी को इस तरह सज़ा दिया की मानो जैसे वो एक दुल्हन हो तब से लेकर आज तक यह परम्परा चली आ रही है .कार्तिक अमावस्या के गहन अन्धकार को दूर करने के लिए दीपों को प्रज्वलित किया जाता है .और घर आंगन ,और हर जगह को जगमगा दिया जाता है।

दीपावली त्यौहार के लाभ

(1) दीवाली त्योहार से बहुत से लाभ है इस त्यौहार की वजह से छोटे बड़े व्यापारियों की अच्छी खासी कमाई हो जाती है।
(2) इससे सबसे बड़ा लाभ ये होता है कि दीपावली के बहाने ही सही लोग अपने घरों की बहुत साफ-सफाई कर देते हैं.माना जाता है कि जिनका घर आँगन साफ सुथरा होता है माँ लक्ष्मी
उन्ही के घर प्रवेश करती है।
(3) इस त्यौहार से छोटे (कुटीर ) उद्योग को भी काफी लाभ होता है मिट्टी का सामान ,साज सज्जा का सामान , माँ लक्ष्मी की मूर्तियां यह सब कुटीर उद्योगों द्वारा बनाए जाते हैं जिससे उनकी जीविका चलती है इसलिए त्यौहार उनके जीवन में भी खुशियां लेकर आता है।
(4) इस त्यौहार मैं आपसी प्रेम बढ़ता है इस त्यौहार में सभी अपने संबंधों में मिठास लाने की कोशिश करते हैं इसके लिए घरों में गुजिया पकवान और मिठाइयां इत्यादि बनाए जाते हैं, और एक दूसरे को देकर आपसी संबंधों को और मजबूत करके उनमें मिठास लाते है।

दीपावली के त्यौहार में हानियां

कहां जाता है दीपावली हिंदुओं का पवित्र त्यौहार है पर हमारी छोटी सोच की वजह से इसके कई नुकसान भी है।
(1) पटाखों की वजह से बहुत नुकसान होता है जो कि स्वास्थ्य पर भी प्रभाव डालता है।
(2) ज्यादातर लोग साफ-सफाई में फिजूल पानी बहा देते हैं।
(3) लाइट की सजावट में विद्युत ऊर्जा की बहुत बर्बादी हो जाती है।
(4) अत्यधिक मिष्ठान के कारण स्वास्थ्य बिगड़ता है।
(5) दिओ को जलाने में बोहोत सा तेल खर्च हो जाता है।
(6) दिखावे के चक्कर में लोग फिजूल खर्च ज्यादा करते हैं।

दीपावली हम हिंदुओं का सबसे बड़ा त्यौहार है इसे हमें समझ बुझ और समझदारी और सावधानी से विचार करके मनाना चाहिए जिस्से ये त्योहार हमारे लिए और अधिक महत्वपूर्ण और खुशियों से भरा हो जाएगा.

उपसंहार: दीपावली का त्योहार खुशियों का त्योहार है यह हमारे जीवन में खुशियां लेकर आता है .हमें जीवन को एक नए तरीके से जीने की सीख देता है अंधेरे से उजाले की ओर बढ़ने की प्रेरणा देता है.कुछ लोग इस त्यौहार को गलत नजरिए से देखते हैं जो समाज के लिए बुरी बात है इसलिए इन बुराइयों से बचना चाहिए ,पटाखे सावधानी पूर्वक फोड़ना चाहिए और इस बात का भी ध्यान रखना चाहये की किसी के मन को कोई ठेस ना पहुंचाएं किसी को कोई दुख या परेशानी या हानि ,या तकलीफ ना हो इस बात का भी ध्यान रखा जाना चाहिए ,हम सब को मिलकर इस त्यौहार को मनाना चाहिए और इस त्यौहार के नाम दीपावली को सार्थक करना चाहिए।

#सम्बंधित :- Hindi Essay, हिंदी निबंध।