सूर्य ग्रहण पर निबंध

पर्यावरण संरक्षण पर निबंध

जब चंद्रमा, पृथ्वी और सूर्य के मध्य से होकर गुजरता है उस प्रक्रिया को सूर्य ग्रहण कहते है। पृथ्वी से देखने पर सूर्य पूर्ण या आंशिक रूप से चंद्रमा द्वारा …

पूरा पढ़ें »

जलवायु परिवर्तन पर निबन्ध

पर्यावरण संरक्षण पर निबंध

आज हम आपके लिए जलवायु परिवर्तन विषय पर निबंध लेकर प्रस्तुत हुए हैं। यह निबंध आपकी परीक्षाओं में आने वाले जलवायु परिवर्तन विषय से संबंधित निबंध में बेहद लाभकारी साबित …

पूरा पढ़ें »

पर्यावरण संतुलन पर निबंध

पर्यावरण संतुलन पर निबंध

पर्यावरण हमारे जीवन के लिए बेहद आवश्यक है। विभिन्न रूपों से पर्यावरण हमारे जीवन से संबंध रखती है। ऐसे में पर्यावरण की रक्षा करना हमारा कर्तव्य बनता है। जब हम …

पूरा पढ़ें »

आपदा प्रबंधन पर निबंध

aapda prabandhan par nibandh

आपदा प्रबंधन निबंध प्राकृतिक आपदा जो मानव जीवन से लेकर, कई करोड़ो की संपत्ति का नुकसान करते है। इस क्षति से उभर पाना सरकार और प्रशासन के लिए मुश्किलों भरा होता …

पूरा पढ़ें »

बाढ़ पर निबंध (प्राकृतिक आपदा)

बाढ़ पर निबंध

बाढ़ पर निबंध- Flood par nibandh बाढ़ एक  भयंकर प्राकृतिक आपदा है। बाढ़ की भयंकरता , इसकी विभीषिका  वही   जानता  है , जिसने प्रत्यक्ष रूप  से इसको झेला है। जब …

पूरा पढ़ें »

सूखा/अकाल पर निबंध (प्राकृतिक आपदा)

सूखा / अकाल पर निबंध (प्राकृतिक आपदा)

सूखा /अकाल पर निबंध-Essay on Drought in Hindi जब किसी क्षेत्र में लम्बे वक़्त तक बारिश नहीं होती है वहां अकाल  यानी सूखे की स्थिति उतपन्न हो जाती है। संसार …

पूरा पढ़ें »

सुनामी पर निबंध (प्राकृतिक आपदा)

सुनामी पर निबंध

सुनामी पर निबंध-Tsunami par hindi nibandh सुनामी एक तरह की प्राकृतिक विपदा है जो जन जीवन का सर्वनाश कर देती है। यह एक ऐसी आपदा  है जिसमे समुन्दर के तल …

पूरा पढ़ें »

प्राकृति का प्रकोप पर निबंध

प्राकृतिक का प्रकोप पर निबंध

प्राकृति का प्रकोप पर निबंध-Prakriti ka prakop par nibandh मनुष्य अपने स्वार्थ सिद्धि और तरक्की के लिए आये दिन प्रकृति को नुकसान पहुंचा रहा है। इसी के चलते प्रकृति  इतना अत्याचार …

पूरा पढ़ें »

बाढ़ का आँखों देखा हाल पर निबंध

बढ़ पर निबंध

बाढ़ का आँखों देखा हाल [flood essay] 700 शब्दों में निबंध। नदी के खेल निराले हैं । कभी सुंदर-सौम्य रूप के आकर्षण से हमें सम्मोहित करती है, तो कभी विकराल …

पूरा पढ़ें »