सर्दी के मौसम पर निबंध

पंडित जवाहरलाल नेहरू पर निबंध

प्रस्तावना सर्दी का मौसम अन्य प्रतीक्षित मौसमों में सबसे सुहावना होता है। इस मौसम को अधिकतर लोग पसन्द किया करते हैं। मुझे भी यह मौसम अत्यंत प्रिय है। इस मौसम …

पूरा पढ़ें »

नदी की आत्मकथा पर निबंध (300 और 500 शब्द)

पंडित जवाहरलाल नेहरू पर निबंध

प्रस्तावना प्रकृति के इस सौंदर्य में कई पेड़ पौधे, पहाड़ों के साथ नदियों का नाम भी मुख्य भूमिका में आता है।मेरा स्थान बेहद महत्वपूर्ण है। मेरे जीवन में बस लोगों …

पूरा पढ़ें »

पर्यावरण संरक्षण पर निबंध (300, 500 और 600 शब्दों में)

पंडित जवाहरलाल नेहरू पर निबंध

दोस्तों, हम अपने पर्यावरण के विषय में तो जानते ही हैं, कि पर्यावरण ही दुनिया के समस्त भगौलिक स्थितियों का नियंत्रणकर्ता है। लेकिन आधुनिक भारत में नवीनीकरण व औद्यौगिककरण ने …

पूरा पढ़ें »

स्वच्छता अभियान पर 300 और 500 शब्दों में निबंध

clean-your-village-hindi-essay-clean-india

दोस्तों, आज के लेख के माध्यम से हम स्वच्छता अभियान पर निबंध प्रस्तुत कर रहे हैं। जो कि प्रत्येक कक्षा के विद्यार्थी के लिए उपयोगी रहेगा। तो आइए जानते हैं …

पूरा पढ़ें »

पौधारोपण एक आवश्यकता निबंध

पंडित जवाहरलाल नेहरू पर निबंध

दोस्तों, हमें बचपन से ही यह सिखाया जाता है कि हमें पेड़ों को नहीं काटना चाहिए, ज्यादा से ज्यादा पेड़ों को लगाना चाहिए और उनकी रक्षा करनी चाहिए। लेकिन ऐसा …

पूरा पढ़ें »

पर्यावरण पर निबंध

पंडित जवाहरलाल नेहरू पर निबंध

पर्यावरण का हमारे जीवन में बेहद महत्व है। पर्यावरण को साफ और स्वच्छ रखना हमारी ही जिम्मेदारी है। पर्यावरण ने हमे जीवन जीने के लिए वो सभी उपयोगी चीजें हमें …

पूरा पढ़ें »

ठोस अपशिष्ट प्रबंधन पर निबंध

पंडित जवाहरलाल नेहरू पर निबंध

ठोस अपशिष्ट हम सभी के जीवन के लिए एक खतरनाक समस्या है, क्योंकि इसकी वजह से आज हर दिन नई-नई बीमारियां फैल रही है। इन बीमारियों की वजह से हर …

पूरा पढ़ें »

सूर्य ग्रहण पर निबंध

पंडित जवाहरलाल नेहरू पर निबंध

जब चंद्रमा, पृथ्वी और सूर्य के मध्य से होकर गुजरता है उस प्रक्रिया को सूर्य ग्रहण कहते है। पृथ्वी से देखने पर सूर्य पूर्ण या आंशिक रूप से चंद्रमा द्वारा …

पूरा पढ़ें »

पेड़ पर निबंध

पंडित जवाहरलाल नेहरू पर निबंध

पेड़ का हमारे जीवन में बेहद महत्व है। पेड़ों से हमे ऑक्सीजन मिलती है, जिसके कारण हम सभी जीवित है। क्या आपने कभी सोचा है कि अगर पेड़ न रहे …

पूरा पढ़ें »