ज़िंदगी में दोस्त का महत्व पर निबंध

हमारी ज़िंदगी में दोस्त का महत्व पर निबंध।
Essay on Importance of Friends in our Life in Hindi

दोस्त यानी मित्रता जो जीवन के सारे रिश्तों से भिन्न होता है। मित्रता एक अनोखा रिश्ता है जो खून का नहीं मगर दिल से होता है। दोस्ती हर रिश्ते से ऊपर होता है। अगर दोस्त न हो जीवन से मुस्कराहट चली जाती है। एक सच्चे मित्र का मिलना किस्मत पर निर्भर  होता है। मित्रता वह अटूट रिश्ता होता है जो अंतर्मन से जुड़ा होता है। एक सच्चा मित्र अपने दोस्त की ख़ुशी और गम में हमेशा शामिल होता है। ज़िन्दगी में कोई भी मदद चाहिए आपके मित्र आपके लिए खड़े हो जाते है। एक सच्चा मित्र ज़रूरत पड़ने पर अपने मित्र की सहायता करना नहीं भूलता है। वह अपनी जान पर खेलकर भी अपने मित्र की रक्षा करता है। विद्यार्थी जीवन में दोस्तों की एहमीयत ही कुछ और होती है। टिफ़िन बाटना, अपने किताबे शेयर करना, छोटी -छोटी शैतानियां करना , ऐसी मीठी यादें हम सारी उम्र अपने दिल के पास रखते है।

एक सच्चा मित्र हमेशा हमारे भले के बारें में सोचता है। अगर हम अपनी ज़िन्दगी में रास्ता भटक जाए तो हमे सही मार्ग दिखाना दोस्तों का काम है। एक सच्चा मित्र हमे हमेशा हमारी सच्चाई बताता है। कहीं हम गलत हुए तो उसे सुधारने की सलाह देते है। एक सच्चा दोस्त हमारे दुःख और सुख में हमेशा साथ खड़ा रहता है। एक सच्चा दोस्त ज़िन्दगी की हर कठिनाइयों में हमारे साथ खड़ा होता है। अच्छा दोस्त हमेशा अपने दोस्त के हित के बारें में सोचता है। मित्र को किसी मुसीबत में देखकर तुरंत उसकी मदद करना एक सच्चे मित्र की पहचान है। मुश्किल वक़्त में हमे सच्चे दोस्त की पहचान हो जाती है। सच्चा दोस्त हमेशा अपने दोस्तों की सुख, समृद्धि का ख्याल रखता है। मित्रता में धर्म, जाति कुछ देखी नहीं जाती है। यह एक सच्चा पाक रिश्ता है। मित्रता का रिश्ता अटूट भावनाओं से जुड़ा होता है।

बाकी सारे रिश्ते हमे भगवान् जन्म से देते है। लेकिन दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है जो दिलों से जुड़ जाते है। चाहे दोस्त कैसे भी हो , एक सच्चा दोस्त साये की तरह हर छोटी -बड़ी परेशानियों में उसके साथ खड़ा हो जाता है। एक सच्चा दोस्त हर मुसीबत में ढाल बनकर खड़ा हो जाता है ताकि दोस्त को किसी तरह की कोई तकलीफ न हो। बचपन से ही हम दोस्त बनाना सिख जाते है। लेकिन इस रिश्ते को जीवन के अंत तक निभाना यह मनुष्य पर निर्भर करता है। एक सच्चा मित्र किसी भी विपरीत परिस्थितियों में अपनी ज़िन्दगी की सारी परेशानियों को भुलाकर दोस्त की सहायता में लग जाता है। अपने दोस्त की एक मुस्कान के लिए वह अपनी ज़िन्दगी भी दाव पर लगा देता है।

मुश्किल परिस्थतिओं में हम बुरे और अच्छे दोस्तों से वाकिफ हो जाते है। बुरे वक़्त में जो आपका साथ दे वह सही माईनो में आपका सच्चा दोस्त है। अपने सच्चे दोस्त को हमेशा अपने ज़िन्दगी में करीब रखना चाहिए तभी सही माईनो में आप धनवान बन सकते है। मित्रता पूंजी है जो कोई भी आप से उसे छिन्न नहीं सकता। दोस्तों की कदर और सच्चे दोस्त की पहचान एक दूसरा सच्चा मित्र ही कर सकता है। एक सच्चा दोस्त आपको आपकी गलती बताता है और आपको सही मशवरा भी देता है।

एक सच्चा दोस्त हमे बुरे हालातों से निकलने में हमारी मदद करता है। हमे हमेशा खुश रखता है और हमारे परिवार का भी ध्यान रखता है। सच्चा मित्र आपके दुःख और सुख में साथ देने की कसम लेता है और आजीवन उसे निभाता है। वह दोस्त जो बुरे वक़्त में आपका साथ छोड़ दे, वह मित्र कहलाने लायक नहीं होता है। सच्चा मित्र आपका हर परिस्थिति आपका आत्मविश्वास बढ़ाएगा। मित्र को कभी भी बिखरने नहीं देगा। वह हर कार्य में आपको प्रोत्साहन देगा। आपका शुभचिंतक और हितेषी बनकर जीवन भर आपका मंगल चाहेगा। एक ऐसा सच्चा दोस्त अगर ज़िन्दगी में मिल जाए तो ज़िन्दगी सफल हो जायेगी। किसी भी परिस्थिति में हम आँख बंद करके अपने दोस्त पर भरोसा कर सकते है। जिसने सारी ज़िन्दगी मुश्किलों में आपका हाथ थामे रखा वह सच्चा दोस्त भगवान् के दिए हुए वरदान के बराबर है। वक़्त के साथ -साथ दोस्ती का रंग और निखर के आता है।

कह सकते है समय बीतने के साथ दोस्ती और मजबूत हो जाती। सच्ची दोस्ती जीवन के अंत तक अपने सच्चे मित्र का साथ नहीं छोड़ती। मनुष्य समाज में रहने वाला एक प्राणी है और अपने दुःख-दर्द बाटने के लिए उसे सच्चे मित्र की आवश्यक्ता होती है। एक सच्चा मित्र जिसे हम अपनी ज़िन्दगी की कोई भी बात बेझिजक और बिना रोक -टोक कह सकते है। सच्चे मित्र का धन नसीब वालों को मिलता है।

#सम्बंधित: Hindi Essay, Hindi Paragraph, हिंदी निबंध।

Leave a comment