Upcomming- Festivals in August

[Wed, 12 Aug] Krishna Janmashtami

[Sat, 15 Aug] Independence Day

[Sat, 22 Aug] Ganesh Chaturthi (गणेश चतुर्थी)

इंटरनेट का मनुष्य जाति पर प्रभाव

इंटरनेट का मनुष्य जाति पर प्रभाव पर निबंध

प्रस्तावना: अंतरजाल का मतलब अंग्रेजी में इंटरनेट है। अंतरजाल एक ऐसा माध्यम है जो हमें पूरे दुनिया के साथ जोड़ता है। आजकल लोग सन्देश पहुंचने के लिए मेल (जीमेल) का सहारा लेते है। व्हाट्सप्प पर हम कॉल, मैसेज और डोक्युमेंट हर चीज़ भेज सकते है। ऑनलाइन वीडियो भी एक अनोखा माध्यम है जिससे हमे कई जानकारी मिलती है।

विधार्थी ऑनलाइन ट्यूशन से पढाई करते है। शिक्षक के पास जाना नहीं पड़ता, और इंटरनेट के जरिये जानकारी और शिक्षा मिल जाती है। आजकल अखबार पढ़ने से पहले लोग मोबाइल फ़ोन पर इंटरनेट के माध्यम से समाचार पढ़ लेते है। इंटरनेट के माध्यम से बच्चे इंटरैक्टिव गेम्स खेलते है। इंटरनेट के माध्यम से युवा पीढ़ी नौकरी दुनिया के किसी भी प्रांत में ढूंढ सकते है।

अगर कोई सामान खरीदना हो तो हम घर बैठे ऑनलाइन शॉपिंग कर सकते है। कोई भी चीज़ आप गूगल पर पूछ सकते है। आपकी हर ख्वाइश पूरी हो सकती है, जैसे अगर कोई दूल्हा या दुल्हन ढूँढना चाहे तो इंटरनेट हर मदद कर सकता है बस एक क्लिक करने की देरी है। किसी भी सफर में जाने का टिकट, बैंक सेवा, इत्यादि सब कुछ इंटरनेट पर उपलब्ध है।

इंटरनेट के आने से विश्व में एक सकारात्मक बदलाव आया है। यह एक ऐसी टेक्नोलॉजी है, जो हर छोटी बड़ी मुश्किल को आसान कर सकता है। इंटरनेट ने हमारी ज़िन्दगी को सरलता से छू लिया है। इसके बगैर हमारी ज़िन्दगी वीरान जैसी हो जाती है। इंटरनेट ने ज्ञान का समंदर बनकर हमारी जीवन को आसान बना दिया है।

सामाजिक जागरूकता इंटरनेट के द्वारा फैली है। इंटरनेट पर हम कोई भी नाम टाइप करे तो हमे उसके बारे में सारी जानकारी प्राप्त हो जाती है। इंटरनेट के द्वारा हम किसी भी विषय की पढाई कर सकते है।

इंटरनेट के जरिये अध्यापक दूर से हमे ज्ञान वितरण कर सकते है। इंटरनेट के जरिये लाखो विद्यार्थी अपनी पढाई करते है। सरल ज्ञानवर्धक वीडियोस को देखकर उन्हें पढाई करने में आसानी होती है। इंटरनेट जैसे दीपक की रोशनी बनकर आज घर-घर में फैल गया है। इंटरनेट के माध्यम से आजकल बिज़नेस मेन ऑनलाइन सेल जैसे व्यापार कर रहे है और अच्छा खासा मुनाफा भी कमा रहे है।

खाने के आर्डर से लेकर, कपड़ो की खरीदारी सब इंटरनेट /गूगल के माध्यम से कर सकते है। इंटरनेट पर हर ज़रुरत की सेवा उपलब्ध है। इंटरनेट का कनेक्शन काफी सस्ता हो गया है और अब यह गावों तक भी पहुंच गया है।

इंटरनेट के ज़रिये हम घर बैठे कोई भी सीरियल, मूवी और गाने को सुन और देख सकते है। फेसबुक, ट्विटर के ज़रिये हम विश्व के किसी भी कोने के लोगो से जुड़ सकते है। वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग आजकल इंटरनेट के माध्यम से बेहद आसान हो गया है। हम अपनी ज़िन्दगी इंटरनेट के बगैर सोच तक नहीं सकते है। आज मनुष्य जाति ने विज्ञान के सभी छेत्रों में अद्भुत उन्नति की है। अंतरिक्ष के विषय में कोई भी जानकारी हमें इंटरनेट की साहयता से चुटकीभर में उपलब्ध हो जाति है। इंटरनेट ने उन्नति की नए दरवाजे सभी देशों के लिए खोल दिए है। ज़िन्दगी के छोटे-बड़े सभी पहलु की सुचना मिल जाति है। इंटरनेट के द्वारा हम दूर बैठे अपने परिजनों से वीडियो कॉल के ज़रिये बात कर सकते है और सन्देश के आदान-प्रदान कर सकते है।

पूरे विश्व में लॉक-डाउन के इस मुश्किल दौर में इंटरनेट के माध्यम से घर पर बैठकर हम ऑफिस, बैंक का काम, विद्यार्थी को पढ़ाना आदि अनगिनत कार्य कर सकते है। इंटरनेट की सराहना जितनी भी की जाये उतनी काम है। इंटरनेट से संपर्क साधने के लिए कुछ विशेष चीज़ो की आवश्यकता होती है जैसे मॉनिटर, कीबोरर्ड, माउस, मॉडेम, सॉफ्टवेयर , ब्राउज़र (इंटरनेट एक्स्प्लोरर , मोज़िल्ला ), तब जाकर हमे इंटरनेट की दुनिया में प्रवेश कर सकते है। आज के ज़माने में ये एक आम बात है। आजकल के बच्चों को इसके बारे में बहुत ज्यादा जानकारी है , आज कल बच्चे इंटरनेट और गेम खेलने में अपना पूरा दिन निकाल देते है।

लेकिन न जाने क्यों हम कुछ ज़्यादा ही इंटरनेट के अधीन और वश में होते जा रहे है। इंटरनेट के इस अत्यधिक इस्तेमाल से हमने समाज के साथ मिलना-जुलना छोड़ दिया है और अकेलेपन के शिकार होते जा रहे है। कई बार इंटरनेट से इतनी ज़्यादा जानकारी मिलती है की हम असमंजश में पड़ जाते है। 1990 के दशक में इंटरनेट नहीं था, लेकिन जीवन सरल था। हमारे पास टेक्नोलॉजी नहीं थी, लेकिन फिर भी हमारे पास परिवार और समाज के लिए वक्त था, जो आज नहीं है। दिन व दिन हम अपने समाज से पिछड़ते जा रहे है।

आजकल युवा पीढ़ी इंटरनेट पर अनजान लोगो से दोस्ती कर लेते है। दोस्ती करना बुरी बात नहीं है लेकिन हम सही रूप से यह नहीं जानते है की क्या वह इंसान सच्चा है या उसकी मनसा क्या है? इसीलिए आजकल साइबर क्राइम का खतरा बढ़ रहा है। हमे यह नहीं भूलना चाहिए की हमने/मनुष्य-जाती ने इंटरनेट को बनाया है, नाकि इंटरनेट ने हमे। कहने का तात्पर्य यही है की हमे हमेशा अपने जीवन के हर पहलू में सतर्क रहने की आवश्यक्ता है।

निष्कर्ष: इंटरनेट विश्व को तरक्की की ओर ले जा रहा है। इसीलिए इसका हम सही इस्तेमाल और नियंत्रण करेंगे तो अवश्य हम उन्नति की राह पर चल पड़ेंगे। हर वस्तु में गुण और खामिया दोनों ही होती है। इंटरनेट की मार्ग दृष्टि भविष्य में मनुष्यो को ऊंचाई की राह पर ले जाएगी। इंटरनेट के बिना हमारी दैनिक ज़िन्दगी एक प्रश्न चिन्ह की तरह है। इंटरनेट लोगो को, समाज को, पूरी दुनिया को एक दूसरे के साथ जोड़ने के एक अनोखा माध्यम है जिसे हमे सही तरीके से इस्तेमाल करना है।

लेखक : रीमा बोस

#सम्बंधित: Hindi Essay, Hindi Paragraph, हिंदी निबंध।

Leave a Comment