कंप्यूटर पर निबंध

कंप्यूटर पर निबंध, कंप्यूटर की विकास, इतिहास, Hindi essay on computer .

प्रस्तावना:- आज हमारा देश, या यूं कहें आज का युग तकनीकी और वैज्ञानिक युग है आज तकनिकी अविष्कारों में कंप्यूटर भी वैज्ञानिकों की देन है जो कि एक सर्वशक्तिमान सुपरमैन की तरह है परंतु यह केवल एक स्वचालित इलेक्ट्रॉनिक मशीन है। उसका प्रयोग संस्थानों तथा उद्योग-धंधों, कार्यालय हर क्षेत्र में इसका प्रयोग विशाल रूप में किया जा रहा है कंप्यूटर सूचना एकत्रित करने के साथ ही निष्कर्ष निकालने का कार्य भी करता है इसलिए यह बहुत ही लाभकारी तथा मार्गदर्शक सिद्ध हो रहा है। यह एक प्रकार से मानव के मस्तिक से जन्म लिया मानव मस्तिष्क ही है। जिसने कंप्यूटर का रुप लिया है।

कंप्यूटर क्या है: कंप्यूटर एक प्रकार से यांत्रिक मस्तिष्क या यूं कहें इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है कंप्यूटर शब्द लैटिन शब्द से लिया गया है इसका अर्थ होता है गणना करना ,कंप्यूटर बहुत कम समय में गणना करके हमारे आंखों के सामने इसकी गणना निकाल देता है।

कंप्यूटर का इतिहास:- सबसे पहले 1000 ई.पू. जापान में एबेकस नामक यंत्र तैयार किया गया था इसके माध्यम से गणित के प्रश्नों का हल किया जाता था और फिर फ्रांस के ब्लेन पैस्कल ने 1673 इसवी में कंप्यूटर को बनाकर तैयार किया। परंतु आधुनिक कंप्यूटर का आविष्कार का श्रेय इंग्लैंड के चार्ल्स बैबेज को जाता है 1833 में उन्होंने इसे बनाया था।  इसकी लोकप्रियता को देखकर भारत सरकार ने 1965 में इसका आयात किया 1985 में निजी कंप्यूटर आया फिर 1986 में आधे मूल्य में इसका आयत किया अब इसका प्रयोग शिक्षा के क्षेत्र में विशाल रूप से किया जाता है। अब व्यक्ति खुद कंप्यूटर पर गणना करके समस्याओं का निपटारा कर लेता है।

कंप्यूटर का विकास

(1) 1450 B.C. अबेकस- यह एक प्राचीन गणना यंत्र है।

(2) 1600 A.D. नेपियर बोंस- यह दूसरा गणना यंत्र है।

(3) 1642 A.D. ब्लेस पास्कल- फ्रांस के गणितज्ञ ब्लेस पास्कल ने बनाया , 1642 मे
यांत्रिक गणना मशीन।

(4) 1962 A.D. मल्टिप्लाई मशीन- गोटरीड लेबनीज (जर्मनी )ने पास्कल के मशीन को बेहतर बनाया जिसमें जिसमें गुणा भाग किया जाता है।

(5) 1813 A.D. डिफरेंस इंजन चार्ल्स बैबेज- इंग्लैंड 19वीं सदी में जटिल गणना के लिए 1813 में डिफरेंस इंजन का विकास।

(6) 1800 A.D. जैकुआर्ड लूम- जोसेफ मारी जेकुआर्ड लूम 19 वीं सदी में एक प्रोग्राम किया जाने वाला लूम बनाया।

ये कम्प्यूटर का 1450 से 1900 सदी तक का विकास है।

कंप्यूटर के उपयोग (लाभ)

(1) कंप्यूटर का उपयोग औद्योगिक क्षेत्र में।

(2) कंप्यूटर का प्रयोग घरों में किया जाता है।

(3) कंप्यूटर का उपयोग शिक्षा के क्षेत्र में किया जाता है।

(4) सूचना एवं समाचार के क्षेत्र में।

(5) कंप्यूटर का प्रयोग बैंक में किया जाता है।

(6) कंप्यूटर का उपयोग विज्ञान में किया जाता है।

(7) कंप्यूटर का उपयोग चिकित्सा तथा स्वास्थ्य में किया जाता है।

(8) कंप्यूटर का उपयोग शिक्षा के क्षेत्र में किया जाता है।

(9) कंप्यूटर का प्रयोग खेलों में किया जाता है।

(10) और कंप्यूटर का उपयोग सभी प्रशासनिक क्षेत्र और सरकारी कार्यालय में किया जाता है।

दरअसल ऐसा कोई क्षेत्र नहीं बचा जहां कंप्यूटर का प्रयोग नहीं किया जाता है यह कार्य को बहुत ही कम समय में पूरा कर देता है।

कंप्यूटर से हानि। 

(1) इसकी लत मानव को बीमार बना रहा है।

(2) स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव।

(3) मोबाइल कंप्यूटर पर ज्यादा देखने से आंखों को नुकसान।

(4) लोगों का मिलना जुलना बंद हो गया लोग ज्यादातर सोशल नेटवर्किंग साइट जैसे ,फेसबुक ,व्हाट्सएप्प ,पर चैट करना ज्यादा पसंद करने लगे हैं।

(5) बड़ी कंपनियों में मजदूरों की जगह रोबोट ने ले लिया है जिससे उनका रोजगार छीन रहा है।

(6) इंटरनेट के माध्यम से ठगी बहुत बढ़ गई है।

(7) बैंक के पर्सनल डाटा चोरी चोरी हो जाते हैं।

(8) साइबर क्राइम बढ़ रहे हैं।

उपसंहार:- आज हमारा युग कंप्यूटर का युग बन गया है। लोगों का आपसी मेल मिलाप कम होता जा रहा है शिष्टाचार भी कम होता जा रहा है।  कंप्यूटर, मोबाइल ,व्यक्ति के जीवन का एक हिस्सा बन गया है उनकी सुबह की शुरुआत से लेकर रात के सोने तक कंप्यूटर मोबाइल ने ले लिया है। हमें कंप्यूटर को अपना सहयोगी समझकर अपनाना चाहिए ना की जीवन का हिस्सा,परंतु यह भी हम नजर-अंदाज नहीं कर सकते हैं कि इसके प्रयोग से सभी क्षेत्र में हमारा देश बढ़ रहा है। और विश्व में अपना गौरव और अपना नाम बढ़ा रहा है।

#सम्बंधित:- Hindi Essay, हिंदी निबंध। 

2 thoughts on “कंप्यूटर पर निबंध”

  1. Nice bhai achha hai hi accha likha hai to apne aur usse Meri bahut sari har Koi hai iske liye bahut bahut dhanyavad aapka bahut jyada help Hui

Leave a comment