Upcomming- Festivals in August

[Wed, 12 Aug] Krishna Janmashtami

[Sat, 15 Aug] Independence Day

[Sat, 22 Aug] Ganesh Chaturthi (गणेश चतुर्थी)

पेड़-पौधे का महत्व निबंध

पेड़ पौधे का महत्व पर निबंध।
Essay on the importance of trees

हमारी प्रकृति की सुंदरता पेड़-पौधों पर निर्भर है। इसके बैगर प्रकृति वीरान लगता है। पेड़-पौधों का महत्व हम विश्ववासी को पता है लेकिन फिर भी हम इन बातों पर कुछ विशेष ध्यान नहीं देते है। प्राचीनकाल से मनुष्य और जीव-जंतु पेड़-पौधों पर निर्भर है। पाषाण युग में आदिमानव कंद-मूल, पेड़-पौधे के पत्ते, फल और डालियाँ खाते थे। तब मनुष्य को सभ्यता के बारे में कोई भी ज्ञान न था।

पेड़ों से आदिमानव अपने शरीर को ढकता था। पेड़ों पर अपना आश्रय ढूंढ लेता था। जंगली-जानवरो से बचने के लिए वो पेड़ों पर चढ़ जाता था। मनुष्य के जीवन में पेड़ों का महत्व जल बिन मछली जैसा है। पेड़ों से हमे छाया, मीठे फल, औषधि, लकड़ियां प्राप्त होती है। आज मनुष्य अपने स्वार्थ को पूर्ण करने के लिए बिना सोचे-समझे पेड़ों को काट रहा है। उसे इस बात का इल्म नहीं है की वह अपना और अपनी प्रकृति का कितना बड़ा नुक्सान कर रहा है।

प्राचीन काल में वृक्षों ने ही मनाव जाती को कई प्राकृतिक आपदाओं से बचाया है। तेज़ बारिश और तेज़ धुप से मनुष्य की रक्षा की है। मनुष्य अपने घरों, कारखानों, स्कूलों, शॉपिंग मॉल बनाने के लिए वृक्षों की कटाई कर रहे है। कई पेड़ रोज़ाना काटे जाते है। लेकिन पेड़ लगाने के विषय में लोग कम सोचते है।

पेड़ -पौधे प्रकाश संश्लेषण कार्य करते है जिसे अंग्रेजी में फोटोसिंथेसिस कहा जाता है। हम मनुष्य कार्बन डाइऑक्साइड छोड़ते है, जो पौधे सोख लेते है, उसके साथ जल और सूरज की किरणों की आवशयकता होती है। पौधे प्रकाश संस्लेषण से ऑक्सीजन निर्माण करते है। जितने अधिक पेड़-पौधे होंगे उतना वातावरण में ऑक्सीजन का निवास होगा।

जितने ज़्यादा पेड़ काटेंगे चाहे वह सड़क या कोई कंपनी का निर्माण के लिए हो। वायु में ऑक्सीजन की कमी पायी जाएगी। आजकल बाजार में विभिन्न तरीके के फर्नीचर्स की मांग बढ़ रही है। इसलिए सागौन जैसे कई अनेक पेड़ कांटे जा रहे है। जितने पेड़ काटे जा रहे प्रदूषण अपने चर्म सीमा पर जा रहा है। लगातार सड़को पर वाहनों की संख्या बढ़ रही है।

कार्बन डाइऑक्साइड, मीथेन जैसी गैस की बढ़ोतरी के कारण ग्रीन हाउस इफ़ेक्ट जैसे प्रक्रिया उतपन्न हो रही है। ग्रीन हाउस एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमे किसी भी गृह के वातावरण में कार्बोंडिऑक्सीड जैसी गैस तापमान को अपेक्षाकृत बढ़ा देती है जो नुक्सान देह है।

वृक्ष हमारे प्रकृति को खूबसूरत बनाता है और वातावरण को शुद्ध बनाता है। पेड़ मनुष्य के मित्र है। हमे पेड़ो को न काटकर पेड़ लगाने चाहिए। अगर पेड़ पौधे नहीं रहेंगे तो पृथ्वी में असंतुलन बढ़ जायेगा। अगर पेड़ -पौधे नहीं रहेंगे तो पृथ्वी पर कोई भी प्राणी जीवित नहीं रहेगा।

पेड़ हमारे पर्यावरण को हरा भरा और खुशहाल रख सकते है। आज कल पेड़ो को संरक्षित करने हेतु अनेक जागरूकता कार्यक्रम चलाये जाते है। वन महोत्स्व जैसे कई कार्यक्रम और प्रतियोगिता आयोजित की जाती है ताकि लोगों में पर्यायवरण के संरक्षण और पेड़ो के महत्व के प्रति जागरूकता फैले। आज यह हमारी विडंबना है कि हम वन और पेड़ो जैसी प्राकृतिक संसाधनों की एहमियत नहीं समझ रहे। अगर हमे अपनी पृथ्वी की रक्षा करनी है तो हमे अवश्य पेड़ लगाने होंगे। क्योंकि वो दिन दूर नहीं कि फिर से प्रकृति और पेड़ो के आभाव में यह पृथ्वी आग का गोला बन जायेगा।

निष्कर्ष

पेड़ हमे साफ़ और प्रदुषण रहित पर्यावरण देने की कोशिश करते है इसीलिए सड़को के पास कई पेड़ लगाए जाते है ताकि प्रदुषण को नियंत्रित कर सके। पेड़ भूमि कटाव यानी soil erosion जैसी प्राकृतिक आपदाओं से बचाते है।

पेड़ों की जड़े उपजाऊ मिटटी यानी humus soil को पकड़े रखती है। जिससे भूमि कटाव नहीं हो पाता। पेड़ों की वजह से वर्षा होती है। पेड़ों को काटने की वजह से मानसून महीने में वर्षा की मात्रा में कमी आ रही है। पेड़ पौधे प्रकृति द्वारा दी गयी अमूल्य भेंट है। बढ़ते औद्योगीकरण के कारण पेड़ों पौधे की संख्या में कमी आ रही है। वो दिन दूर नहीं की पृथ्वी का अंत हो जायेगा। पेड़ नहीं तो पृथ्वी नहीं और पृथ्वी नहीं तो हम नहीं। पेड़ हमारे जीवन के लिए अत्यंत आवश्यक है। इसलिए हमे अधिक से अधिक पेड़ पौधे लगनी चाहिए।

#सम्बंधित: Hindi Essay, Hindi Paragraph, हिंदी निबंध।

Leave a Comment