लड़का-लड़की एक समान पर निबंध, लेख, अनुछेद, भाषण।

4/5 - (59 votes)

लड़का-लड़की एक समान पर निबंध | Ladka ladki ek saman par nibandh.

आजकल  के इस ज़माने में लड़का लड़की में कोई भेद नहीं है। पहले के ज़माने में अक्सर लोग यह मानते थे कि लड़कियां जीवन में लड़को से कभी आगे नहीं बढ़ सकती है।  लड़कियों का स्कूल जाना और पढ़ना- लिखना अच्छा नहीं समझा जाता था। लड़कियों को सिर्फ घरेलू कार्यो में गिना जाता था।  लड़कियों की छोटी उम्र में शादी कर दी जाती थी और उनके सपने भी समाप्त हो जाते थे। मगर आज ऐसा नहीं है , लड़कियां कई क्षेत्रों में लड़को  से आगे निकल गयी है।  दसवीं और बारहवीं कक्षा  में लड़कियां स्टेट टोपर बनके अपने आपको साबित कर रही है। लड़कियों ने समाज को साबित कर दिया है कि वह हर एक कार्य को करने में सक्षम है।

लड़कियों ने हर क्षेत्र में जीत हासिल की और अपने परिवार का नाम रोशन किया। आजकल समाज में लड़कियों को लड़को जितना अधिकार दिया जाता है। लड़के और लड़की को एक समान दर्जा सरकार ने भी दिया है। आज कल लड़कियां हर पद पर नौकरी कर रही है।  वह अपना रोजगार चला रही है और घर परिवार में सहयोग दे रही है। लड़कियां सरकारी और प्राइवेट दफ्तरों में अपने काबलियत के अनुसार नौकरी कर रही है।

आज लड़कियां पढ़- लिखकर डॉक्टर , पुलिस इंस्पेक्टर , कलेक्टर , शिक्षिका और पायलट इत्यादि बनकर , अपने परिवार का नाम रोशन कर रही है। कल्पना चावला अंतिरिक्ष तक पहुँच गयी थी। भारत आजाद होने से पहले रानी लक्ष्मीबाई ने अपने शौर्य और पराक्रम का परिचय दिया था। अभी भी देश में कुछ जगह ऐसी है जहाँ लड़कियों को उनके शिक्षा से वंचित रखा जाता है।  कन्या भ्रूण हत्या जैसे निंदनीय अपराध आज भी समाज में हो रहे है। ऐसे अपराधों में लड़कियों को माँ के पेट में जन्म  से  पहले  मार दिया जाता है।   सरकार को ऐसे अपराधों को रोकने के लिए और अधिक सख्त कदम उठाने होंगे।

अभी भी लोगो में जागरूकता फैलाना आवश्यक है कि ऐसी कोई भी चीज़ या काम नहीं है , जो लड़कियां ना कर सकती हो। आजकल कामकाजी महिलाएं अपना घर और दफ्तर इत्यादि कोई भी पेशा बखूभी निभा रही है।   लड़कियां सटिकता से पुरुषो को घर के खर्चो में मदद कर रही है और उनकी हिम्मत भी बन रही है।  पुरुषो से कंधा से कन्धा मिलाकर वह चल रही है।  लड़को की तरह लड़कियां हर कार्य में निपुण है। यह कहना गलत ना होगा कि लड़कियों ने कई क्षेत्रों में लड़को को पीछे छोड़ दिया है।

आजकल कई घरो में पुरुषो ने महिलाओ के प्रतिभा को समझकर उन्हें आगे बढ़ने का मौका दिया है।  वह अपने पत्नी के फैसलों और उनके सोच का सम्मान करते है। परिवारों में महिलाओ के सोच को हर सदस्य सम्मान देता है।  वहीं ऐसे कुछ लोग है जो लड़कियों को घरो के कार्यो में मसरूफ रखते है और शिक्षित होने के बावजूद भी उन्हें बाहर काम करने नहीं दिया जाता है।  प्रतिष्ठा और मान सम्मान के नाम पर कुछ महिलाएं घरो के चार दीवारी में कैद हो जाती है। कुछ परिवारों में लड़कियों को प्यार और सम्मान नहीं दिया जाता है जितना लड़को को दिया जाता है। ऐसे घरो में लड़कियों को आगे की पढ़ाई के लिए कॉलेज नहीं भेजा जाता है। लड़कियों की मर्ज़ी के विरुद्ध परिवार वाले उनका विवाह कर देते है और लड़कियों को अपना मन मारना पड़ता है।  सदियों  पहले बेटियों के जन्म  पर माँ को कोसा जाता था। दहेज़ के नाम पर नारियों का शोषण आज भी कई घरो में हो रहा है। दहेज़ और बाल विवाह जैसी कुप्रथाओ के खिलाफ सरकार ने कई नियम लागू किये है। आज भी यह अपराध हो रहे है।  इस पर अंकुश लगाना ज़रूरी है।

रानी लक्ष्मीबाई ने झांसी की आज़ादी के लिए लड़कर अपने वीरता और शौर्य का परिचय दिया था |वह तब के ज़माने में अन्याय और अंग्रेज़ो के अत्याचारों के खिलाफ आवाज़ उठाती थी | उन्होंने निडर होकर अंग्रेज़ो का सामना किया और वीरगति को प्राप्त हुयी |

पहले वंश को आगे बढ़ाने के नाम पर लड़को को अधिक अहमियत दी जाती थी। लोग पहले यह भूल गए थे कि घर की रोशनी तो लड़कियों की उन्नति से भी होती है।  अभी भी बहुत सारे गाँव में लड़कियां अशिक्षित है। इसलिए लोगो को जागरूक करना आवश्यक है। वक़्त के साथ साथ अब समाज भी महिलाओं के सोच का सम्मान कर रहा है।  उस पर हो रहे अत्याचारों का  विरोध समाज कर रहा है।

लड़कियों के संग आज भी कुछ घरो में बुरा बर्ताव हो रहा है। कई घरो में वह घरेलू हिंसा का शिकार हो रही है। इस पर अंकुश लगाने के लिए सरकार ने कई सख्त नियम बनाये है।  पहले के ज़माने में नारियों का बेहद तिरस्कार किया जाता था। महिलाओं की सहनशक्ति का परिचय हमेशा से समाज ने लिया है।  आज संतुष्टि है कि इस दकियानूसी सोच में परिवर्तन आ गया है। जहाँ देवी माँ की पूजा की जाती है , वहाँ नारियों का सम्मान किया जाना चाहिए। आज नारियों को किसी भी प्रकार के अधिकार से वंचित नहीं रखना  चाहिए।  अगर लड़कियां शिक्षित होगी  तो वह अपने दायित्व को अच्छी तरह से समझ पाएगी।  अपने सारे कर्तव्यों को बेहतर तरीके से निभा पाएगी।

अभी वक़्त बदल गया है।  आज के आधुनिक युग में लड़कियों को प्राथमिकता दी जाती है।  सरकार की तरफ से लड़कियों के हित में बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ जैसे अभियान चलाए जा रहे है। लड़कियों के  आगे की पढ़ाई के लिए प्रोत्साहन और छात्रवृति दी जा रही है।

सरकार ने महिलाओ की शिक्षा और उनकी उन्नति को प्राथमिकता दी है |कठोर कानून बनाये गए है ताकि महिलाएं सुरक्षित  रहे |   समाज  को  लड़कियों  और लड़को में भेदभाव बिलकुल  समाप्त कर देना चाहिए। महिलाएं  दिवस , महिलाओ के सम्मान के लिए मनाया  जाता है।  इस दिवस पर विभिन्न क्षेत्रों में अच्छे कार्य और योगदान के लिए उन्हें पुरस्कृत  किया जाता है।    आज महिलाएं आत्मनिर्भर बन रही है और खुद अपने पाँव पर खड़ी है। जब  समाज की  सोच  सम्पूर्ण रूप से बदल जायेगी तो निश्चित तौर पर लड़का -लड़की में भेदभाव भी खत्म हो जाएगा।

निष्कर्ष

जब लड़कियां शिक्षित होगी , तब देश की उन्नति भी होगी। समाज की सोच और विचारधारा भी उन्नत हो गयी है।  अब लड़कियों के जन्म पर दुःख नहीं खुशियां मनाई जाती है। लड़का -लड़की एक सामान है , यह अब हमारे देश ने अच्छी तरह से समझ लिया है।  उम्मीद है कि सारे देशवासी इस बात को सिर्फ कहेंगे नहीं बल्कि अमल भी करेंगे। अतः लड़का -लड़की एक समान है और भेदभाव करना सरासर गलत है।

#लड़का-लड़की एक समान पर अनुछेद। ladka ladki ek saman anuched

आधुनिक युग में लड़का और लड़की के बीच कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए। अब समय बदल गया है और समाज ने इसे स्वीकार किया है कि लड़कियों को भी समाज के हर क्षेत्र में समान अधिकार और मौका मिलना चाहिए।

पहले के समय में लोग यह मानते थे कि लड़कियां सिर्फ घरेलू काम कर सकती हैं और उन्हें पढ़ाई नहीं करनी चाहिए। इसके कारण लड़कियों को शिक्षा से वंचित रखा जाता था। लेकिन आजकल के समय में, लड़कियां नौकरी कर रही हैं, पढ़-लिखकर अपने सपने पूरे कर रही हैं और खुद को समाज में साबित कर रही हैं। वे स्कूल में अच्छे अंक प्राप्त कर रही हैं और विभिन्न क्षेत्रों में अपनी क्षमता से नौकरी कर रही हैं।

लड़कियां आज समाज में उच्च पदों पर भी काम कर रही हैं, जैसे कि डॉक्टर, पुलिस इंस्पेक्टर, कलेक्टर, शिक्षिका, पायलट और अन्य क्षेत्रों में। उन्होंने समाज को यह सिद्ध कर दिया है कि वे हर काम में सक्षम हैं और उन्हें समान अधिकार और सम्मान मिलना चाहिए। इससे वे समाज में सम्मानित और स्वावलंबी हो रही हैं।

लड़कियों के सशक्तिकरण के लिए सरकार भी कई योजनाएं चला रही है, जैसे कि “बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ” अभियान। इससे लड़कियों को पढ़ाई के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है और उन्हें छात्रवृति भी मिल रही है। इसके अलावा, सरकार ने कई सख्त कानून बनाए हैं जिनसे लड़कियों को समाज में सुरक्षित रहने का मौका मिल रहा है।

हालांकि, अभी भी कुछ जगहों पर लड़कियों को उनके अधिकारों से वंचित रखा जाता है। दहेज़ और बाल विवाह जैसी कुप्रथाएं अभी भी समाज में हो रही हैं, जिसके खिलाफ सरकार कड़ी से कड़ी कार्रवाई कर रही है। हमें इस परिवर्तन को गतिशीलता से लाने के लिए सक्रिय भागीदार बनना होगा और समाज को जागरूक करना आवश्यक है कि लड़कियों के सम्मान और समानता के लिए उन्हें सहायता की जरूरत है।

इस संदर्भ में, लड़कियों को पढ़ाई-लिखाई में रुचि दिखाने और उन्नति के लिए प्रोत्साहित करने के लिए हम सभी को सक्रिय होकर योगदान देना चाहिए। लड़कियों के सम्मान और समानता के लिए समाज के माध्यम से भेदभाव और अन्याय को समाप्त करने का प्रयास हम सभी का सामाजिक दायित्व है। इससे हमारा समाज समृद्धि और समानता की दिशा में प्रगति करेगा।

#लड़का लड़की एक समान पर 10 वाक्य

  1. समाज में लड़का और लड़की एक समान अधिकार और मौका प्राप्त करने चाहिए।
  2. लड़का और लड़की दोनों को समाज में समान मानवाधिकार का लाभ होना चाहिए।
  3. लड़का और लड़की के बीच कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए, वे एक-दूसरे के साथ समानित होने चाहिए।
  4. समाज को लड़का और लड़की के तरह समान दर्जा देना चाहिए, ताकि वे सामाजिक और आर्थिक रूप से समृद्ध हो सकें।
  5. शिक्षा, रोजगार, और समाज में लड़का और लड़की के बराबर अवसर होने चाहिए।
  6. लड़का और लड़की दोनों ही समाज के विकास में अपना योगदान दे सकते हैं।
  7. समाज को लड़का और लड़की के समान अधिकारों का समर्थन करना चाहिए।
  8. लड़का और लड़की दोनों को समाज में सामाजिक और राजनीतिक निर्णय लेने का अधिकार होना चाहिए।
  9. समाज को लड़का और लड़की के बीच भेदभाव को दूर करने के लिए सक्रिय रूप से काम करना चाहिए।
  10. लड़का और लड़की एक समान भूमिका निभाने के लिए एक-दूसरे के साथ सहयोग करने चाहिए।

#संबंधित :- Hindi Essay, Hindi Paragraph, हिंदी निबंध। 

1 thought on “लड़का-लड़की एक समान पर निबंध, लेख, अनुछेद, भाषण।”

Leave a Comment