निबंध- नारी के प्रति सम्मान की भावना, नारी का सम्मान पर निबंध।

 ” में कवि की कविता कामिनी हूं
मैं चित्रकार का रूचिर चित्र.
में जगत – नाट्य की रसाधार अभिलाषा मानव की विचित्र।। 

ब्रह्मा के पश्चात इस भूतल पर मानव को वितरित करने वाली नारी का स्थान सर्वोपरि है। नारी मां ,बहन, पुत्री एवं पत्नी के रूपों में रहती है । मानव का समाज से संबंध स्थापित करने वाली नारी होती है ।किंतु दुर्भाग्य है कि इस जगत धात्री को समुचित सम्मान ना देकर उसने प्रारंभ से ही अपने वशीभूत रखने का प्रयत्न किया है।नारी के रूप को देवी का प्रतीक मानते है ।इसका सम्मान पूरे संसार को बदलने की क्षमता रखता है ।नारी को मा दुर्गा माँ सरस्वती ओर माँ लक्ष्मी के रूप में पूजा जाता है।

प्राचीन भारत में नारी

प्राचीन भारत में नारी की स्थिति अच्छी थी ।वैदिक काल में नारी का सम्मानजनक स्थान था। रोमसा,लोपामुद्रा अधिकारियों ने ऋग्वेद के सूक्तो को रचा ,तो कैकई , मंदोदरी आदि की वीरता एवं विवेकशील का विख्यात है ।सीता ,अनुसुइया ,सुलोचना आदि के आदर्शों को आज भी स्वीकार किया जाता है ।महाभारत काल की गांधारी , कुंती द्रोपति के महत्व को भुलाया नहीं जा सकता उस काल में नारी वंदनीय रही है.
प्रचीन भारत मे नारी ब्रह्माचार्य का पालन करते हुए शिक्षा ग्रहण करती थी। तत्पश्चात अपना विवाह रचाती थी। ईशा से 500 साल पूर्व व्याकरण पारणी द्वारा पता चला है ।कि नारी उस समय वेद अध्यन भी करती थी ।उन्हें स्त्रोतों की रचना करती थी ।और ब्रह्मा वादिनी कहि जाती थी ।प्राचीन भारत में नारी और पुरुष को बराबर ही समझा जाता था और एक समान सम्मान प्रदान किया जाता था।

“यत्र नार्यस्तु पूज्यंते रमंते तत्र देवता।”

मनुस्मृति के वचन अनुसार

जहां स्त्री जाति का आदर सम्मान होता है उनकी आवश्यकता और अपेक्षाओं की पूर्ति होती है उस स्थान, समाज ,परिवार पर ,देवता गण प्रसन्न रहते हैं ।जहां ऐसा नहीं होता और उनके प्रति तिरस्कार का व्यवहार किया जाता है वहां देव कृपा नहीं रहती है और वहां संपन्न किए गए कार्य सफल नहीं होते।

मध्यकाल में नारी की स्थिति

मध्यकालीन नारी के लिए अभिशाप बन कर आया। मुगलो के आक्रमण के फलस्वरूप नारी की करुण कहानी का प्रारंभ हुआ
मुगल शासकों की कामुकता ने उसे भोग की वस्तु बना दिया वह घर की सीमा में ही बन्दी बनकर रह गई थी ।वह पुरुष पर आश्रित होकर अपला बन गई थी।

“अबला जीवन हाय तुम्हारी यहीकहानी.

आंचल में है दूध और आंखों में है पानी.”

भक्तिकाल में भी नारी को समुचित सम्मान ना मिल सका। सीता ,राधा, जी के आदर्श रूपो के अतिरिक्त नारियोको कबीर ,तुलसी आदि कवियों ने नागिन ,भस्म करने वाली तथा पतन की ओर ले जाने वाली माना है। रिटीकाम में तो वो पुरुष के हाथों का खिलौना बनकर रह गई थी।

आधुनिक नारी

आधुनिक काल नारी चेतना तथा नारी उद्धार का काल रहा है ।राजा राममोहन राय ,महर्षि दयानंद, महात्मा गांधी आदि ने नारी को गरिमामय में बनाने का सफल प्रयास किया। कविवर पन्त के शब्दों में जन-मन ने कहा

“मुक्त करो नारी को मानव ,चिर वंदनी नारी को ।
युग – युग की निर्मम कारा से ,जननी ,सखी,प्यारी को।”

वस्तुतः स्त्री तथा पुरुष जीवन के रथ के दो पहिए हैं ।नारी तथा पुरुष का एकतत्व सार्थक मानव जीवन का आदर्श है ।अतः उसे बंदनी मानना भूल है।

आज की नारी पुरुष से बराबरी से चल रही है। महिलाएं सातवें आसमान पर झंडा गाड़ कर कल्पना चावला बन रही है किरण बेदी बनकर अपराधियों को पकड़ रही है ।अरुणा राय और मेघा पाटकर बनकर सामाजिक अन्याय से जूझ रही है ।प्रतिभा पाटिल जैसे सर्वोच्च पद पर आसीन है। आज की नारी वदूष बनकर लोकसभा की सदारत कर रही है।ओर भी कई ऐसी नारिया है जो सम्मानीय है।जैसे मदर टेरेसा ,लता मंगेशकर बनकर भारत रत्न तक प्राप्त कर रही है। आज की नारी हर क्षेत्र में सम्मान प्राप्त कर रही है।और पुरुष के बराबर कंधे से कंधा मिलाकर चल रही है।

नारी का सम्मानीय स्थान

नारी का स्थान समांनीय होना चाहिए उसके प्रति पुरुष प्रधान समाज को सम्मान की दृष्टि रखना चाहिए ,उसको पेर की जुती नहीं समझना चाहिए। आज पूरे विश्व में 8 मार्च का दिन महिला दिवस के रूप में मनाया जाता है जो कि स्त्रियों के नाम होता है ।नारी का धरती पर सबसे सम्मानीय रूप है मां का ,मां जिसे ईशवर से भी बढ़कर माना जाता है। उस सम्मान को कम नहीं होने देना चाहिए ।माना आज की संतान अपने मां को इतना महत्व नहीं देती जो कि गलत है।

आज की नारी घर के कामकाज के अलावा पढ़ लिख कर दोहरी जिम्मेदारी निभा रही है घर के कामकाज ओर नोकरी करना नारी के लिए दाएं हाथ का काम है। फिर पुरुष क्यों नहीं समझता कि जो नारी अपने घर अपन बच्चेे ओर अपने परिवार के लिए अपना पूरा जीवन दे देती है।तो उसका सम्मान करे ना की अपमान करके नारी को को और अपने आप को शर्मिंदा ना करे। छोटी बच्चियों जो कि देवी का रूप होती है । तो उसे उसी रूप में स्वीकारे। ना कि अपनी मानसिकता को गिरा कर ऐसे काम करे कि बाद में न्याय और माफी की कोई गुंजाइश ही ना बचे ऐसे गिरे हुए लोगो को अपनी मानसिकता बदलनी होगी।

आज कल ऐसी घटनाएं सुनने में आती है कि उस व्यक्ति के प्रति क्रोध और शर्म आती है । कि जिस देश मे नारी की पूजा की जाती है उसी देश मे ओर पूरी दुनिया मे ही नारी का अपमान किया जाता है।इसके प्रति सरकार को कड़ा कानून बनाना होगा जिससे ऐसा व्यक्ति कुछ करने से पहले ही डरे । इसलिए हर क्षेत्र और जाति समाज और धर्म मे नारी का सम्मान सर्वोच्च होना चाहिए। ओर नारी को किसी भी रूप में बस सम्मान की दृष्टि से देखें।

उपसंहार

नारी पराधीनता से मुक्त होकर आज पुनः अपनी एवं रूम गरिमा को पा रही है । पाश्चात्य प्रभाव के कारण नारी समाज के एक वर्ग में विलासीता की भावना अवश्य बड़ी है किंतु वह दिन दूर नहीं जब वह सदमार्ग पर आ जाएगी वो अपने रूप को वर्णन करेगी । वस्तुतः नारी मानवता की प्रतिमूर्ति है।

“मानवता की मूर्तिवती तू – भव्य – भाव – भूषण – भंडार।
दया – क्षमा – ममता के आकार विश्व प्रेम की है आधार।।”

 

#सम्बंधित: Hindi Essay, हिंदी निबंध।