गर्मी का मौसम पर निबंध

गर्मी का मौसम पर निबंध। Essay on summer season in Hindi

भारत में आने वाली चार ऋतुओं में से एक ऋतू गर्मी है। इसे हम ग्रीष्म ऋतू भी कह सकते है। भारत हर वर्ष गर्मी के मामले में अपना आंकड़ा पार कर रहा है। भारत में अन्य देशों के मुकाबले गर्मी बहुत ज़्यादा पड़ती है। गर्मी में सूरज अपनी चरम सीमा पर होता है। भारत में गर्मी के कारण लोग हमेशा परेशान हो जाते है। गर्मी में लोग पंखे और वातानुकूलित यन्त्र जैसे एयर कूलर के बैगर नहीं रह सकते है। क्यूंकि गर्मी में पसीना बहुत ज़्यादा आता है। लोग पसीने से बचने के लिए पाउडर और डिओडरंट जैसे वस्तुएं इस्तेमाल करते है। गर्मी में सूरज की किरणों से बचने का सबसे बड़ा अस्त्र छाता होता है। लोग बाहर जाने से पहले अपना छाता लेना नहीं भूलते है।

गर्मी में लू से बचने के लिए लोग अपना मुंह और सर ढक लेते है। लोग आँखों को बचाने के लिए sunglasses का प्रयोग करना हरगिज़ नहीं भूलते है। लोग सड़को में छायादार जगह पर खड़े होकर बर्फ के गोले और आइस क्रीम खाना पसंद करते है। भारत में गर्मी 45 डिग्री के ऊपर चला जाता है। भारत में उत्तर -पूर्वी राज्यों को छोड़कर अन्य सभी राज्यों में भयंकर गर्मी पड़ती है।

गर्मी की ऋतू में होली जैसे त्यौहार मनाते है। गर्मी के मौसम में अत्यधिक गर्मी पड़ने के कारण तालाब सुख जाते है। कई जगहों पर सूखा पड़ने के कारण लोगों में त्र्याही मच जाती है। भारत में दिल्ली, मध्य प्रदेश, बिहार, आंध्र प्रदेश और उत्तर प्रदेश इत्यादि राज्यों में प्रचंड गर्मी से लोग बेहाल हो जाते है। गर्मी से बचने के लिए लोग कई तरह के जूस पीकर अपने शरीर को ठंडा रखने की कोशिश करते है। गर्मी से बचने के लिए लोग सूती के ढीले वाले कपड़े पहनते है।

गर्मी में हलके रंग के कपड़े पहनने चाहिए जैसे सफ़ेद, नीला। भारत में गर्मी के कारण गाँव में पानी का अभाव झेलना पढ़ता है। तालाब और कुएं का पानी सुख जाता है। लोगों को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। गर्मी में बिजली का कटना स्वाभाविक हो गया है। बिजली चले जाने से लोगों को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है और लोग गर्मी से बेहाल और परेशान हो जाते है। गर्मी आम का मौसम कहलाता है। लोग इस मौसम में आम खाना बेहद पसंद करते है। गर्मी का मौसम में बाहर से लौटते वक़्त लोग निम्बू पानी या आम पन्ना पीते है। गर्मी में लोग मलाई कुल्फी का भी लुफ्त उठाते है।

गर्मी में जैसे ही सूरज आसमान में हमारे सर के ऊपर चढ़ता है उतनी गर्मी भी अधिक हो जाती है। गर्मी में खीरा, कटहल , खरबूजा और तरबूज जैसे फल मिलते है। गर्मी में अत्यधिक लोग अपना बाजार करने हेतु शाम और रात को जाते है ताकि तेज़ गर्मी और धुप से अपनी रक्षा कर सके। गर्मी में हमे ज़्यादा मसालेदार और तीखा नहीं खाना चाहिए इससे पेट की कई समस्याएं हो सकती है। गर्मी में डिहाइड्रेशन आम तौर पर लोगों को होता है। डिहाइड्रेशन शरीर में पानी और ग्लूकोस की कमी के कारण होता है। हमे गर्मी के मौसम में बिमारियों से बचने के लिए कई प्रकार की सावधानी बरतनी होगी।

हमे गर्मी से बचने के लिए ज़्यादा से ज़्यादा पानी पीने की ज़रूरत है। पानी ज़्यादा पीने से हमे डिहाइड्रेशन जैसी परेशानियों से मुक्ति मिल सकती है। ग्लूकोस का पानी और निम्बू पानी हमे गर्मी में आराम प्रदान करता है। आज कल मनुष्य अपने स्वार्थ सिद्धि के लिए प्राकृतिक संसाधनों को नुकसान पहुंचा रहा है। वृक्ष की कमी के कारण गर्मी के मौसम में वर्षा की मात्रा कम हो रही है। जिससे हमे गर्मी की मार झेलनी पड़ती है। प्रतिदिन बढ़ते हुए प्रदूषण के कारण गर्मी ने एक भीषण रूप धारण कर लिया है।

निष्कर्ष: वैश्विक तापमान वृद्धि के कारण गर्मी पृथ्वी पर दिन -प्रतिदिन बढ़ती चली जा रही है। हमे गर्मी में बिजली और पानी अनावश्यक रूप से खर्चा नहीं करना चाहिए। गर्मी की छुट्टियों का आनंद अभिभावक और बच्चे लेना नहीं भूलते है। वह गर्मियों में पहाड़ी जगहों पर घूमना ज़्यादा पसंद करते है। गर्मियों में लोग सूरज उदय होने से पहले सुबह की ताज़ी हवा का मज़ा लेना नहीं भूलते है। भारत में अधिकतर गर्मी का मौसम ज़्यादा पैमाने पर रहता है। भारतीय लोगो गर्मी का आनंद उठाने के साथ-साथ अपना ध्यान देना नहीं भूलते है।

#सम्बंधित: Hindi Essay, Hindi Paragraph, हिंदी निबंध।

Leave a comment