26 January गणतंत्र दिवस पर निबंध

विद्यालय में गणतंत्र दिवस का समारोह पर निबंध
Republic Day (26 January )

इस वर्ष हमने अपने स्कूल में गणतंत्र दिवस बहुत धूमधाम से मनाया, वैसे तो हर साल ही हम गणतंत्र दिवस बहुत हर्षोउल्लास से मनाते है।हम सब विद्यार्थी गणतंत्र दिवस के दिन सुबह 7 बजे अपने यूनिफार्म में उपस्थित हो गए।

सबसे पहले हम सब स्कूल के हॉल में एकत्रित जो गए, फिर जब स्कूल की घण्टी बजी तो हम सब को झंडा फहराने के लिए स्कूल के मैदान में जाने के लिए कहा गया। फिर हमारे प्रधानाचार्य ने झंडा फहराया फिर हम सब ने हमारे देश का राष्ट्रीय गान गाया।

झंडा फहराने के बाद हमारे स्कूल के उप-प्रधानाचार्य जी ने संदेश पड़ा, हम सब बच्चों से देश की उन्नति के लिए कार्य करने को कहा।

हमे बताया गया कि 26 जनवरी 1950 को हमारे देश का संविधान लागू किया गया, ओर यही दिन ! भारत का गणतंत्र दिवस कहलाता है। और तभी से 26 जनवरी के दिन प्रतिवर्ष गणतंत्र दिवस के रूप में सारे भारत वर्ष में बड़ी धूमधाम से मनाया जाने लगा।

26 जनवरी की तिथि का स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में अपना विशेष महत्व है। सन 1930 में रावी नदी के तट पर कांग्रेस के लाहौर अधिवेशन में स्वर्गीय पंडित जवाहरलाल नेहरू ने पूर्ण स्वतंत्रता की घोषणा की 26 जनवरी 1930 को उन्होंने प्रतिज्ञा की, की “जब तक हम पूर्ण स्वतंत्रता प्राप्त न कर लेंगे तब तक हमारा स्वतंत्रता आंदोलन चलता रहेगा और इसे प्राप्त करने के लिए हम अपने प्राणों की आहुति दे देंगे” इसी कारण 26 जनवरी के दिन ही भारत के गणतंत्र की घोषणा के लिए चुना गया।

फिर उनकी स्पीच के बाद हमारे शारीरिक सलाहकार सर जी ने हमें परेड के लिए तैयार होने को कहा। सभी विद्यार्थियों ने  उनके आदेश का पालन किया । हमने सर्वश्रेष्ट प्रदर्शन किया फिर खेल और कई प्रतियोगिता रखी गयी थी। वो शुरू हो गयी और उसके बाद सभी को प्रोत्साहन पुरुस्कार भी प्रदान किया गया।

इन सब जानकारी के बाद अंत मे हमारे प्रधानचार्य ने एक संक्षिप्त भाषण दिया। उन्होंने हमें इस दिन का महत्व बताया। उन्होंने हमारे अनुशासन की भी प्रशंसा की। उन्होंने हमसे देश के प्रति कठिन परिश्रम करने को कहा । उन्होंने हमसे अच्छा नागरिक बनने को कहा।

26 जनवरी की शाम को आतिश-बाजी भी छोड़ी जाती है। तथा रात्रि के समय सरकारी भवनों पर भी रोशनी की जाती है। देश के सभी गांवों , नगरों, स्कूल, कालेजो में सभाएँ की जाती है। इन सभाओं में देश की उन्न्ति ,एकता, अखण्डता व स्वतंत्रता को बनाये रखने की प्रतिज्ञा की जाती है। इस प्रकार 26 जनवरी 1950, को देश मे अपना संविधान , अपना राष्ट्रपति, अपनी सरकार तथा अपना राष्ट्रीय ध्वज हो जिसने के बाद से ही भारत वर्ष संसार का सबसे बड़ा गणतंत्र राष्ट बन गया है।

फिर अंत मे हमारे स्कूल के प्रधानचार्य ने उस दिन उन्होंने एक दिन का स्कूल का अवकाश घोषित किया। जिससे हमें बहुत प्रसन्नता हुई।लगभग 10 बजे कार्यक्रम समाप्त हो गया और हम घर प्रसन्नतापूर्वक वापस लौट आये।

#संबंधित:- Hindi Paragraph, Hindi essay हिंदी निबंध। 

Leave a comment