बाल मजदूरी पर निबंध

बाल मजदूरी पर निबंध

प्रस्तावना: आजादी के इतने वर्षो बाद भी बाल मज़दूरी हमारे देश के लिए एक अभिशाप बना हुआ है। देश के साक्षरता दर में काफी उन्नति हुयी है।  लेकिन गरीबी और …

पूरा पढ़ें »

नागरिक के कर्त्तव्य पर निबंध

नागरिक के कर्त्तव्य पर निबंध 1

अच्छे जीवन की ज़रूरत के लिए देश के नागरिको को कुछ अधिकार दिए गए है।  जहां अधिकार होते है, वहाँ कुछ ज़िम्मेदारियाँ भी होती है। मौलिक अधिकारों की रक्षा के …

पूरा पढ़ें »

विद्यार्थी जीवन में चुनौतियां निबंध

विद्यार्थी जीवन में चुनौतियां निबंध

विद्यार्थियों का जीवन चुनौतियों से भरा हुआ होता है।  वह शिक्षा प्राप्त करते है और परीक्षाओ में उत्तीर्ण होना पड़ता है।  कई सारे विषयो की पढ़ाई के साथ विद्यालय के …

पूरा पढ़ें »

जैसा खाए अन्न , वैसा बने मन निबंध

जैसा खाए अन्न, वैसा बने मन निबंध

प्रस्तावना: भोजन सभी के ज़िन्दगी में महत्वपूर्ण है। भोजन का सेवन करने से हमे कार्य करने की क्षमता मिलती है। जैसा हम खाना खाते है उसका असर हमारे मन और …

पूरा पढ़ें »

गरीबी का शिक्षा पर प्रभाव निबंध

naitik patan ke dusprabhav

गरीबी का शिक्षा पर प्रभाव निबंध- Essay on Effect of Poverty on Education प्रस्तावना: देश में साक्षरता दर और अधिक बढ़नी चाहिए। मगर इसके आगे कई समस्याएं है।  उनमे से …

पूरा पढ़ें »

मित्र की आवश्यकता पर निबंध

मित्र की आवश्यकता पर निबंध

मित्र की आवश्यकता पर निबंध जिन्दगी में एक योग्य और सच्चे मित्र की आवश्यकता सभी  को होती है। सच्चा दोस्त हमें कभी मुश्किलों में अकेला नहीं छोड़ता है। वह लोग …

पूरा पढ़ें »

राष्ट्रीय खेल दिवस पर निबंध-National Sports Day In Hindi

rastriya khel divas 2021

राष्ट्रीय खेल दिवस पर निबंध- rastriya khel divas in hindi प्रस्तावना: भारत में 29 अगस्त को राष्ट्रीय खेल दिवस के रूप में मनाया जाता है।  मेजर ध्यानचंद का जन्मदिन इसी दिन …

पूरा पढ़ें »

महिला शिक्षा पर निबंध, लेख

essay on woman education

महिला शिक्षा पर निबंध-स्त्री शिक्षा पर निबंध प्रस्तावना: महिलाओं को हमेशा अपने अधिकारों के लिए लड़ना पड़ता है।  चाहे वह सपने हो चाहे शिक्षा प्राप्त करने की चाह या आसमान …

पूरा पढ़ें »

पेड़ की आत्मकथा पर निबंध

ped ki atmakatha in hindi

पेड़ की आत्मकथा पर निबंध-वृक्ष की आत्मकथा पर निबंध प्रस्तावना: मैं एक पेड़ हूँ। पेड़ो के बिना सभी प्राणियों का जीना मुश्किल होता है। उसी तरह  मैं एक हरा भरा …

पूरा पढ़ें »

वन महोत्सव पर निबंध

वन महोत्सव पर निबंध

प्रस्तावना :- वन महोत्सव का प्रारंभ तत्कालीन कृषि मंत्री डॉक्टर कन्हैयालाल मुंशी द्वारा सन् 1950 में किया गया है। यह एक राष्ट्रीय महत्त्व है और जो प्रत्येक वर्ष जुलाई के …

पूरा पढ़ें »