नैतिक पतन के दुष्प्रभाव निबंध

naitik patan ke dusprabhav

प्रस्तावना: सारा धन – दौलत, सुख वैभव नैतिकता( सचरित्रता) पर खड़े हैं। महाभारत में प्रहलाद की कथा है। प्रह्लाद अपने समय का बड़ा प्रतापी और दानी राजा हुआ है। उसने …

पूरा पढ़ें »नैतिक पतन के दुष्प्रभाव निबंध

रुपए की आत्मकथा पर निबंध

रुपए की आत्मकथा

प्रस्तावना:- मैं रुपया अर्थात रूपवान किसको प्रिय नहीं हूं। छोटे से परंतु संतुलित एवं सुदृढ़ आकर वाला, स्वरूप परिवर्तन का शोकिन मैं किसी को महत्व नहीं देता हूं । यदि मैं …

पूरा पढ़ें »रुपए की आत्मकथा पर निबंध