festivals-of-india

Indian Festival, भारतीय त्यौहार 2020।
भारतीय त्यौहारों पर निबंध

Indian Festivals, भारतीय त्यौहार। 1

हमारा देश विभिन्नताओं के समूह का एक ऐसा देश है, जो अत्यंत दुर्लभ है और अद्भुत भी है। इस दुर्लभता ओर अदभुत स्वरूप में आनंद और उल्ल्लास कि छटा दिखाई देती है। हमारे देश मे जो भी त्यौहार या पर्व मनाए जाते है, उनमे अनेकरूपता दिखाई पड़ती है। कुछ त्यौहार ऋतू ओर मौसम के अनुसार मनाए जाते है, तो कुछ सांस्कृतिक या किसी घटना विशेष से सम्बंधित होकर सम्पन्न होते है।

हमारे देश में त्यौहार का जाल बिछा हुआ है। यो कहा जाए, जो कोई बहुत बड़ी अत्युक्ति अथवा अनुचित बात नहीं होगी कि यहाँ आये दिन कोई-न-कोई त्यौहार पड़ता ही रहता है। ऐसा इसलिए कि हमारे देश के ये त्यौहार किसी एक ही वर्ग, जाती या सम्प्रदाय से ही सम्बंधित नहे होते हैं अपितु ये विभिन्न्न वर्गों, जातियों और सम्प्रदायों के द्वारा सम्पन्न और आयोजित होते रहते है। इसलिए ये त्यौहार धार्मिक, सांस्कृतिक, राजनीतिक और सामाजिक होते है। इन सभी प्रकार के त्यौहार का कुछ न कुछ विशिष्ट अर्थ होता है। इस विशिष्ट अर्थ के साथ इनका कोई न कोई महत्व भी अवश्य होता है। इस महत्व में मानव की प्रकृति और दशा किसी-न-किसी रूप में अवश्य झलकती है।

त्यौहरो का महत्तव:-  हमारे देश मे त्यौहार का महत्व नःसंदेह है। इन त्यौहार का महत्व समाज और राष्ट्र की एकता-समृधि, प्रेम-एकता, मेल-मिलाप के दृष्टि से है। साम्प्रदायिक -एकता, धार्मिक -समन्वय, सामाजिक-समानता को हमारे भारतीय त्यौहार समय-समय पर घटित होकर हमारे अंदर उतपन्न करते चलते है। जातीय भेद-भावना और संकीर्णता के धुंध को ये त्यौहार अपने अपार उल्लास और आनन्द के द्वारा छिन्न-भिन्न कर देते हैं। सबसे बड़ी बात तो यह होती है कि ये त्यौहार अपने जन्म-काल से लेकर अब तक उसी पवित्रता और सात्विकता की भावना को संजोए हुए हैं। युग-परिवर्तन और युग का पटाक्षेप ईन त्यौहार के लिए कोई प्रभाव नहीं डाल सका। इन त्यौहार का रूप चाहे बड़ा हो, चाहे छोटा, चाहे एक क्षेत्र विशेष तक ही सीमित हो, चाहे सम्पूर्ण समाज और राष्ट्र को प्रभावित करने वाला हो, अवश्यमेव श्रद्धा और विशवास; नेतिकता ओर विशुद्धता का परिचायक है। इससे कलुषता और हीनता की भावना समाप्त होती है और सच्चाई, निष्कपटता तथा आत्मविश्वास की उच्च ओर श्रेष्ट भावना का जन्म होता है।

उपसंहार:- कहां तक कहे, सभी प्रकार के त्योहार हमें परस्पर एकता, एकरसता , एकरूपता और एकात्मकता का पाठ पढ़ाते है। यही कारण है कि हम हिन्दू, मुसलमानो, ईसाइयों, सिखों आदि के त्योहार और पर्वो को अपना त्योहार, पर्व मान करके उसमें भाग लेते है और ह्रदय से लगाते हैं। इसी तरह से मुसलमान, सिक्ख, ईसाई भी हमारे हिन्दू त्योहार-पर्वों को तन-मन से अपना करके अपनी अभिन्न भावनाओं को प्रकट करते है। अतएव हमारे देश के त्योहारो का महत्व धार्मिक, सांस्कृतिक, सामाजिक और आध्यात्मिक दृष्टि से बहुत अधिक है। राष्टीय महत्व की दृष्टी से 15 अगस्त, 26 जनवरी, 2 अक्टूबर, 14 नवम्बर का महत्व अधिक है। संक्षेप में हम कह सकते है कि हमारे देश के त्योहार विशुद्ध प्रेम, भेदभाव और सहानुभूति का महत्वाकांक्षी करते है।

Hindi Essay on Indian Festival, त्यौहार पर निबंध लेखन।
भारतीय त्यौहार पर निबंध। 

होलिका दहन पर निबंध

होलिका दहन पर निबंध Hindi Essay on Holika Dahan प्रस्तावना:- यो तो हमारे देश मे विभिन्न प्रकार के पर्व त्योहार मनाए जाते है। सभी पर्व और त्योहारो के अपने -अपने महत्व और आकर्षण है। इस प्रकार के आकर्षक और महत्वपूर्ण त्योहार में दशहरा, दीवाली, रक्षाबंधन, रामनवमीं, आदि उल्लेखनीय है। होली का त्योहार भी एक ऐसा ही उल्लेखनीय त्योहार है। कब मनाया जाता है:- यह भी हम भलीभाँति जानते- समझते है। कि हमारे देश के पर्व और त्योहार किसी न किसी ऋतु या पौराणिक कथा से अवश्य सम्बंधित होते है। होली के त्योहार पर्व के विषय दो बातें स्पष्ट से कही…

मकर संक्रांति पर निबंध

मकर संक्रांति पर निबंध Hindi Essay on Makar Sankranti प्रस्तावना:- हमारे देश भारत के प्रमुख त्योहारों में से एक त्यौहार मकर संक्रांति भी है।  इस त्यौहार की खाश बात यह है कि इस त्यौहार की एक निश्चित तारीख तय रहती है और वो तारीख है 14 जनवरी है। मीठा खाइए ओर मीठा बोलिये इस त्योहार की सबसे बड़ी मान्यता है।हर्षोल्लास ओर खुशयो के साथ ही अपनी परंपराओं को निभा कर अपनी ख़ुशियों प्रकट करने का नाम मकर संक्रांति त्यौहार है। कब मनाया जाता है:- मकर संक्रांति सूर्य के उत्तरायण होने पर मनाया जाता है। जब सूर्य उत्तरायण होकर मकर रेखा…

महाशिवरात्रि पर निबंध

महाशिवरात्रि पर निबंध [Essay on Mahashivratri] प्रस्तावना:- भारतवर्ष में हिंदुओ के तैतीस करोड़ देवी-देवता हैं जिन्हें वे मानते तथा पूजते हैं परंतु उनमें से प्रमुख स्थान भगवान शिव का है। भगवान शिव को मानने वालों ने शैव नामक सम्प्रदाय चलाया। शैव सम्प्रदाय के अधिष्ठाता एवं प्रमुख देवता भगवान शिव ही माने जाते है और शिव की उपासना नियमित करते है। कहते है सभी भगवान इतनी जल्दी खुश नही होते जितनी जल्दी भगवान शिव होते है। भगवान शिव के नाम:- शास्त्रों और पुराणों में भगवान शिव के अनेक नाम है जिसमे से 108 नाम तो मै यहाँ नही लिख सकता पर…

बाल दिवस पर निबंध

बाल दिवस पर निबंध: 14 नवम्बर [Essay On Children’s Day] भूमिका:- यह सर्वविदित है कि प्रत्येक दिन, तिथि, समय का अपना कोई न कोई अवश्य महत्व होता है। यह भी सर्वविदित है कि मुख्य रूप से हमारे देश के प्रत्येक तिथि, समय और दिन का सम्बंध लगभग किसी न किसी महत्वपूर्ण विषय से जुड़ा हुआ है। यही कारण है कि हमारे देश मे समय-समय पर सम्पन्न होने वाले उत्सव-आयोजन, पर्व त्योहार किसी महान पुरुष के जीवन, या किसी पौराणिक कथा-व्रतांत  या किसी ऐतिहासिक घटना से अवश्य ही सम्बंधित होते है। ये उत्सव आयोजन, पर्व  त्योहार चाहे समाजिक हो राष्ट्रीय हो,…

छठ पूजा पर निबंध

छठ पूजा पर निबंध [Essay On Chhath Puja In Hindi] प्रस्तावना:- जिस प्रकार दुर्गा पूजा, दिपावली आदि त्योहारो को हिंदुओं में धूमधाम से मनाया जाता है। उसी प्रकार छठ पूजा भी  हिंदुओ का प्रमुख त्योहार है। लेकिन  इस त्योहार का उत्साह और रोनक सबसे अधिक बिहार में देखने को मिलती है। छठ पूजा मुख्य रूप से सूर्यदेव की उपासना का पर्व है। पौराणिक मान्यता के अनुसार छठ मइया सूर्यदेवता की बहन है और कहा जाता है कि सूर्यदेवता की उपासना से छठ मइया प्रसन्न होती है और घरों में शुख शांति और धन धान्य से सम्पन्न करती है। इसलिए छठ…

गोवर्धन पूजा पर निबंध

गोवर्धन पूजा पर निबंध [Essay On Goverdhan Puja] प्रस्तावना:- आप को पता ही है कि दीपावली पूरे पांच दिन की होती है और दीपावली के दूसरे दिन जो त्योहार होता है। वो है “गोवर्धन पूजा” इस त्योहार का भी बहुत महत्व है। इसे अन्नकूट के नाम से भी जाना जाता है। गोवर्धन के नाम से ही हम को समझमे आ जाता हैं, कि गाय के गोबर और गाय का इस त्योहार में  अत्यधिक महत्व है। भगवान श्री कृष्ण जी के द्वारा शुरू किए गए इस त्योहार का महत्व अपनी एक अलग ही छाप छोड़ती है। गोवर्धन पूजा का नाम गोवर्धन…

दुर्गा पूजा पर निबंध

दुर्गा पूजा पर हिंदि निबंध–Hindi essay on Durga Puja प्रस्तावना:- यह हम भलीभाँति जानते है, कि हमारा देश भारत एक बहुत बड़ा विशाल देश है। यह भी की इस देश में विभिन्न धर्मो, संस्कृतियों और मत-सिद्धान्तों के लोग रहते है। ये अपने-अपने रीति-रिवाजों, पर्वों-त्योहार, उत्सवों-रस्मों को समय-समय पर मिल-जुलकर मनाया करते है। इनसे होने वाले आनन्द और उमंग लूटते है। अपने जीवन को सुखी और सम्पन्न बनाने के लिए इनकी आवश्यकता और उपयोगिता पे बल देते है। त्योहारो का विषेश अर्थ:- यह हम अच्छी तरह से जानते है कि हमारे देश मे समपन्न होने वाले सभी पर्व व त्योहार हमारी…

श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर निबंध

कृष्ण जन्माष्टमी पर निबंध [Essay On Krishna Janmashtami] प्रस्तावना:- आप सभी को पता ही है , की जन्माष्टमी हिंदुओं का एक प्रमुख त्योहार है और इसे हमारे भारत देश के अलावा अब, विदेशों में भी बडे धूमधाम से मनाया जाता है। श्री कृष्ण हमारी धरती पर मानव रूप में ही प्रकट हुए थे। जिन्हने कंश जैसे पापी का सर्वनाश कर दिया था। जब कंश का वध हुआ। तब पूरे मथुरा में हाहाकार मच गया था। कृष्णजन्माष्टमी बड़े उल्लास और हर्ष के साथ मनाने वाला त्योहार है। जिन्हें बच्चों से लेकर बड़े सभी बड़े हर्ष उल्लास के साथ मनाते है। माना जाता है कि  भगवान…

गांधी जयंती पर निबंध

गांधी जयंती 2 अक्तूबर पर निबंध। Hindi Essay on Gandhi Jayanti 2 October  प्रस्तावना:- भारतीय त्योहारो, पर्वों में गांधी जयंती अर्थात 2 अक्टूबर को भीं एक महत्वपूर्ण पर्व माना जाता है। यह राष्ट्रपिता महत्मा गांधी के जन्म दिवस 2 अक्टूबर के पूण्य स्मरण में मनाया जाता है। महात्मा गांधी के महत्वाकां की दृष्टि से हम इस कह सकते है कि 2 अक्तूबर : गांधी जयंती का न केवल राष्टीय महत्व है, अपितु इसका सामाजिक और संस्कृतिक भी महत्व है। 2 अक्तूबर कैसे मनाया जाता है:- गांधी जयंती को राष्ट्रीय त्योहार पर्व के रूप में मनाने का क्या कारण है। इस…

त्योहार के महत्व पर निबंध

भारत देश मे त्योहारों के महत्व पर निबंधImportance of festivals in our country प्रस्तावना:- हमारा देश विभिन्नताओं के समूह का एक ऐसा देश है, जो अत्यंत दुर्लभ है और अद्भुत भी है। इस दुर्लभता ओर अदभुत स्वरूप में आनंद और उल्ल्लास कि छटा दिखाई देती है। हमारे देश मे जो भी त्योहार या पर्व मनाए जाते है, उनमे अनेकरूपता दिखाई पड़ती है। कुछ त्योहार ऋतू ओर मौसम के अनुसार मनाए जाते है, तो कुछ सांस्कृतिक या किसी घटना विशेष से सम्बंधित होकर सम्पन्न होते है। हमारे देश में त्योहार का जाल बिछा हुआ है। यो कहा जाए, जो कोई बहुत बड़ी…

पोंगल पर निबंध (Festival)

पोंगल पर निबंध, Essay on Pongal Festival in Hindi प्रस्तावना:- भारत पर्वो की भूमि है। विभिन्न  राज्यों में विभिन्न पर्व विभिन्न प्रकार से मनाए जाते है। वही तमिलनाडु के लोग पोंगल बहुत उत्साह के साथ मनाते है। पोंगल वास्तव में तमिलनाडु का बहुत महत्वपूर्ण पर्व है। यह जनवरी माह 14 या 15 तारिक से3  दिनों तक मनाया जाता है। इस पर्व का इतिहास कम से कम १००० साल पुराना है तथा इसे तमिळनाडु के अलावा देश के अन्य भागों, श्रीलंका, मलेशिया, मॉरिशस, अमेरिका, कनाडा, सिंगापुर तथा अन्य कई स्थानों पर रहने वाले तमिलों द्वारा उत्साह से मनाया जाता है। तमिलनाडु के…

भाई दूज – भैया दूज पर निबंध

भाई दूज – भैया दूज पर निबंध “ना सोने की कामना, ना चांदी की आस, भाई बहन का प्यार , हजारो हिरे मोती से ख़ास ,इसलिए तो इस रिश्ते का नाम भाई दूज हैं।” प्रस्तावना:- वैसे तो हमारे हिन्दू धर्म मे कई त्योहार होते है और सभी का अपना  अपना अलग ही महत्व होता है। जिन्हें हम हर्षोल्लास के साथ मनाते है। उनमें से ही एक त्योहार ” भैया दूज ” । जो कि भाई बहन के रिश्तों का प्रतीक माना जाता है। भारतीय समाज मे इस त्योहार का महत्वपूर्ण स्थान है। वैसे हमारे भारत की संस्कृति ही काफी है…


festival-of-India

भारत में मनाए जाने वाले त्यौहारों के नाम की सूची ।
[Names of festivals celebrated in India]
Indian Festival calendar 2020 .


January (जनवरी)
Dateत्यौहार के नाम 
1 JanNew year
2 JanGuru Govind Singh Jyanti
14 JanLohri
15 JanMakar Sakranti (मकर संक्रांति)
15 JanPongal (पोंगल) 
26 JanRepublic Day (26 January गणतंत्र दिवस)
29 JanVasant Panchmi(बसंत पंचमी )
February
Dateत्यौहार के नाम 
9 FebGuru Ravidas Jyanti
18 FebMaharishi Dayanand Saraswati Jayanti
19 FebShivaji Jayanti
21 FebMaha Shivratri/Shivratri(महाशिवरात्रि )
March
Dateत्यौहार के नाम 
9 MarHolika Dahan (होलिका दहन )
9 MarHazarat Ali’s Birthday
10 MarHoli (होली) 
25 MarChaitra Sukladi
April
Dateत्यौहार के नाम 
2 AprRama Navani
6 AprMahavir Jyanti
10 AprGood Friday
12 AprEaster Day
13 AprVaisakhi
14 AprAmbedkar Jayanti
14 AprMesadi/ Vaisakhadi
May
Dateत्यौहार के नाम 
7 MayBuddha Purnima/Vesak
22 MayJamat ul-Vida
25 MayRamzan id/Eid-ul-Fitar(ईद )
June
Dateत्यौहार के नाम 
23 JunRath Yatra
July
Dateत्यौहार के नाम 
31 JulBakr Id/Eid-ul-Adha
August
Dateत्यौहार के नाम 
3 AugRaksha Bandhan/ Rakhi (रक्षा बंधन- राखी )
11 AugJanmashtami/Smarta
12 AugJanmasthami (कृष्णा-जन्माष्टमी )
15 AugIndependence Day (स्वतंत्रा दिवस 15 अगस्त )
22 AugGanesh Chaturthi / Vinayaka Chaturthi (गणेश चतुर्थी)
29 AugMuharram/ Ashura
31 AugOnam
September 
Dateत्यौहार के नाम 
October
Dateत्यौहार के नाम 
2 OctMahatma Gandhi Jayanti (महात्मा गाँधी जयनाती )
22 Oct Maha Saptami
23 OctMaha Ashtami
24 OctMaha Navami
25 OctDussehra (दशहरा-विजयदशमी)
29 OctMilad un-Nabi / Id-e-milad
31 OctMaharishi Valmiki Jayanti
November 
Dateत्यौहार के नाम 
4 NovKarva Chauth
14 NovDiwali/ Deepavali (दिवाली -दीपावली )
15 NovGovardhan Puja
16 NovBhai Duj (भाई दूज )
20 NovChhat Puja
30 NovGuru Nanak Jayanti
December
Dateत्यौहार के नाम 
25 DecChristmas (क्रिसमस )